जानें क्या है बिहार का ‘सुखेत मॉडल’ जिसकी PM नरेंद्र मोदी ने मन के बात में की तारीफ

बिहार के मधुबनी जिले के झंझारपुर अनुमंडल स्थित सुखेत गांव में शुरू की गई कचरे से कमाई योजना की सराहना पीएम मोदी (PM Narendra Modi) ने भी की है. रविवार को मन की बात (Mann Ki Bat) कार्यक्रम में पीएम ने सुखेत मॉडल का जिक्र करते हुए कचरे से कमाई योजना की तारीफ की. आपको बता दें कि मधुबनी के सुखेत (Sukhet Model Bihar) गांव के ग्रामीणों को कचरे के बदले न सिर्फ घरेलू गैस मुफ्त में मिल रही है, बल्कि खेती-बारी के लिए जैविक खाद की जरूरतें भी आसानी से पूरी हो जाती हैं और ये सब संभव हो पाया है कचरे से कमाई योजना के तहत.

 

बीते फरवरी महीने में डॉ राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पूसा के कुलपति डॉ रमेश चन्द्र श्रीवास्तव ने कचरे से कमाई योजना का आगाज करते हुए सुखेत गांव को बेहतरीन सौगात दी थी. कार्यक्रम के दौरान डॉ रमेश चंद्र श्रीवास्तव ने कहा था कि इस योजना के तहत हर घर में गीला और सूखा कचरा अलग-अलग रखने के लिये हरा और नारंगी रंग का डस्टबिन उपलब्ध कराया गया है, जिसमें कचरा जमा होने के बाद विश्वविद्यालय की ओर से घर- घर जाकर कचरे का उठाव कराया जाता है और उससे वर्मी कम्पोस्ट बनाकर उसकी बिक्री की जा रही है.

 

इस योजना से गांव के 15 लोगों को रोजगार भी मिला है, साथ ही गांव में कचरे के बदले ग्रामीणों को दो महीने पर एक सिलिंडर दिया जा रहा है. खास बात ये है कि सिलिंडर पर मिलने वाला सब्सिडी भी ग्रामीणों के खाते में ही जायेगी. स्वास्थ्य के लिहाज से भी ये योजना काफी फायदेमंद है, क्योंकि व्यवस्थित तरीके से कचरा जमा करने पर गांव में जहां साफ-सफाई रहती है वहीं योजना के तहत मिलने वाली घरेलू गैस पर खाना बनाने से गांव की महिलाओं को धूएं से भी निजात मिलेगी जिससे उनका स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा. पीएम द्वारा मन की बात में सुखैत गांव का जिक्र किए जाने से गांव के लोग काफी प्रसन्न हैं

 

हेलो! Best Research के साथ Google News पर जुड़े,   लिंक

 

Input: news18

Leave a Comment

close