छात्रा को ट्यूशन पढ़ाने वाले ने किया अश्लील खेल, कोर्ट ने तय कर दी सजा, बिहार के पश्चिम चंपारण की घटना

नाबालिग लड़की की अश्लील तत्वीर बनाकर वाट्सएप और फेसबुक पर वायरल करने के एक मामले की सुनवाई पूरी करते हुए अपर जिला सत्र न्यायाधीश सह पॉक्सो अधिनियम के विशेष न्यायाघीश अरुण कुमार प्रथम ने कांड के नामजद अभियुक्त दीपक गोंड को दोषी पाया है। गुरुवार को सजा के बिन्दु पर बहश सुनने के बाद न्यायाधीश ने दोष सिद्ध अभियुक्त दीपक गोंड को पॉक्सो अधिनियम की धारा 13 में पांच वर्ष सश्रम कारावास की सजा सुनाई है। साथ-साथ बीस हजार जुर्माना भी देने का आदेश दिया है। वहीं न्यायाधीश ने दीपक गोंड को भादवि की धारा 354 सी में तीन वर्ष की कारावास की सजा भी सुनाई है। सुनाए गए फैसले में न्यायाधीश ने कहा है कि सभी सजाएं साथ -साथ चलेंगी। इस वाद के विशेष लेाक अभियोजक जयशंकर तिवारी ने बताया है कि सजायाफ्ता बगहा थाना क्षेत्र का निवासी है। अपने ही गांव की एक नाबालिग लड़की को वह ट््यूशन भी पढ़ाता था। इसी दौरान वह नाबालिग लड़की की फोटो खींच कर तस्वीर के साथ छेड़छाड़ किया और नंगा तस्वीर बनाकर वायरल कर दिया। जब पीडि़ता के पिता सजायाफ्ता के घर गए और इसकी शिकायत की, तो सभी भड़क गए और मुकदमा कर फंसा देने की धमकी देने लगे। बगहा पुलिस ने नाबालिग लड़की के परिजन के लिखित प्रतिवेदन पर कांड दर्ज कर लिया। दोनों पक्षों को सुनने के बाद न्यायाधीश ने यह फैसला सुनाया।

 

 

हेलो! Best Research के साथ Google News पर जुड़े,   लिंक

 

Source: Jagran

Leave a Comment

close