लड़की को अगवा कर तीन युवकों ने रातभर किया गंदा काम, चार दिनों बाद खुली बेगूसराय पुलिस की नींद

जिले के भगवानपुर थाना क्षेत्र में एक नाबालिग के दुष्‍कर्म की घटना को अंजाम दिया गया। इस मामले में पीड़ि‍त पक्ष ने पुलिस पर प्राथमिकी दर्ज नहीं करने का आरोप लगाया गया है। कहा है कि पुलिस ने पीड‍़‍िता को थाने से भगा दिया। यह आरोप भी लगाया है कि आरोपितों को बचाने के प्रयास में पुलिस लगी है। पीड़िता अपने परिजनों के साथ बेगूसराय के एसपी अवकाश कुमार से न्याय की गुहार लगाने पहुंची। हालांकि अब महिला थाने में मामला दर्ज कर लिया गया है।

 

11 अक्‍टूबर की रात तीन युवकों ने अगवा कर किया दुष्‍कर्म 

13 वर्षीय पीड़‍िता ने आरोप लगाया है कि 11 अक्‍टूबर की रात खाना खाने के बाद कुछ सामान लाने वह दुकान जा रही थी। रास्‍ते में गांव के तीन युवकों विकास तांती, संतोष तांती एवं मनीष सहनी ने उसका अपहरण कर लिया। वे जबरन उसे खींचते हुए एक खेत में ले गए। वहां तीनों ने उसके साथ दुष्‍कर्म किया। पूरी रात उनलोगों ने उसकी अस्‍मत लूटी। सुबह होने पर आंख बंद कर उसे गांव के नजदीक छोड़ दिया। यह धमकी भी दी कि किसी को कुछ बताया तो जान से मार डालेंगे। रातभर गायब लड़की तलाश में स्‍वजन परेशान थे। सुबह जब वह बदहवासी की हालत में घर पहुंची तो उसे देखकर सभी सकते में आ गए।

 

भगवानपुर थाने से बैरंग लौटाए गए स्‍वजन 

पूछा तो लड़की ने पूरी आपबीती सुना दी। इसके बाद स्‍वजन भगवानपुर थाने पहुंचे। आरोप है कि वहां की पुलिस ने एफआइआर करने से इंकार कर दिया। थक-हार कर पीड़ि‍ता महिला थाने पहुंची। वहां भी एफआइआर नहीं की गई। उसे डीएसपी के पास जाने को कहा गया। पीड़ि‍त पक्ष का कहना है कि वहां भी उसे दुत्‍कार दिया गया। हालांकि मामला प्रकाश में आने के बाद पुलिस सक्रिय हुई है। महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई। पीड़ि‍ता की मेडिकल जांच कराई जा रही है। इस बीच एक आरोपित ने लड़की के पिता को काल कर धमकी दी। इसका आडियो वायरल हो रहा है। महिला थानाध्यक्ष अवंती कुमारी ने बताया की मामला संज्ञान में आते ही वरीय अधिकारियों के निर्देश पर प्राथिमिकी दर्ज की गई है। पीड़िता ने तीन लोगों को आरोपित बनाया है। पीड़िता को चिकित्सीय जांच के लिए भेजा गया है।

 

हेलो! Best Research के साथ Google News पर जुड़े,   लिंक

 

Source : Jagran

Leave a Comment

close