BPSC टॉपर सुधीर कुमार देंगे UPSC मेंस की परीक्षा, अपनी बहनों को बुलाते हैं डोरेमॉन

बिहार लोक सेवा आयोग की 66वीं परीक्षा का अंतिम परिणाम आ गया है. बीपीएससी 66वीं में 685 अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए जिसमें वैशाली के महुआ के पोस्ट ऑफिस कर्मी वीरेंद्र कुमार के इकलौते बेटे ने पूरे राज्य में टॉप किया है. महुआ बाजार के रहने वाले सुधीर कुमार ने अपनी कड़ी मेहनत और परिश्रम से 66वीं बीपीएससी परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल किया किया है. परिवारवालों में खुशी का माहौल है. सुधीर की प्रारंभिक शिक्षा महुआ के संत जोन्स स्कूल से हुई है. आईआईटी कानपुर से सुधीर ने बीटेक किया और अपने पहले ही प्रयास में बीपीएससी परीक्षा में बिहार में पहला स्थान हासिल किया है.

शुरुआत के दिनों में सुधीर ने महुआ में ही एक कोचिंग खोली थी. यहां उन्होंने बच्चों को पढ़ाने का भी काम किया. फिलहाल सुधीर दिल्ली में हैं और यूपीएससी का पीटी निकालने के बाद मेंस की तैयारी कर रहे हैं. इधर घर पर बेटे की सफलता को लेकर जश्न का माहौल है. पिता के साथ-साथ दो बहनें भी काफी खुश हैं.

 

बहनों ने बताया कि उसकी हर जरूरत को बचपन से लेकर अभी तक पूरा करती रही है, जिसके कारण सुधीर अपनी बहनों को डोरेमॉन कह कर बुलाया करता था. इस सफलता को लेकर परिवार के सभी लोग मिठाई खिलाकर एक दूसरे को बधाई दे रहे हैं. घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा हुआ है और इलाके में भी उत्साह का माहौल है.

 

बता दें कि बीपीएससी 66वीं परीक्षा में 685 अभ्यर्थी सफल घोषित किए गए हैं. कुल 689 पदों पर भर्ती के लिए परीक्षा ली गई थी. मुख्य परीक्षा का रिजल्ट 13 अप्रैल 2022 को घोषित किया गया था. लिखित परीक्षा में सफल 1838 उम्मीदवारों को साक्षात्कार के लिए बुलाया गया था. इनमें कुल 1768 उम्मीदवार शामिल हुए.

Leave a Comment

close