साल 2021 में खत्म हो जाता करियर, टीम इंडिया के इस दिग्गज खिलाड़ी का करियर बचाने के लिए BCCI से लड़ बैठे विराट कोहली

108

Virat Kohli: टीम इंडिया के लिए आगामी साल 2023 काफी अहम होने वाला है. टीम को वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के लिए टेस्ट में बेस्ट करना होना होगा तो वही 50 ओवर के वर्ल्ड कप के लिए प्लेइंग 11 चुनने पर भी बड़ा दबाव होगा. ऐसे में हाल ही में श्रीलंका सीरीज के लिए वनडे फॉर्मेट में शिखर धवन नहीं चुने गए है. इस बड़े फैसले के बाद क्रिकेट के गलियारों में उनके करियर को लेकर तमाम तरह की बाते सामने आ रही है. कुछ रिपोर्ट्स का कहना है कि विराट कोहली ने दो साल पहले धवन के करियर को अपने दम पर जीवित रखा था वरना धवन को लेकर काफी अनिश्चितता दिख रही थी.

Virat Kohli ने धवन के लिए की थी लड़ाई

शिखर धवन को श्रीलंका दौरे पर वनडे टीम में जगह नहीं दी गयी है. पिछले टीम इंडिया के लिए पिछले कुछ सालों में वनडे फॉर्मेट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ियों में से एक धवन को टीम नें जगह नहीं दिए जाने पर उनके करियर को लेकर काफी सवाल उठ रहे है. टेस्ट और टी20 फॉर्मेट में लम्बे समय से बाहर चल रहे धवन का अब वनडे टीम से भी बाहर होने पर उनके करियर पर तलवार लटकती हुई नज़र आ रही है.

 

ऐसे में कुछ रिपोर्ट्स ऐसी भी सामने आ रही है जिनके अनुसार साल 2021 में इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज से पहले ही धवन को टीम से बाहर किये जाने का फैसला कर लिया गया था लेकिन उस समय के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने मैनेजमेंट से धवन को टीम में ना सिर्फ शामिल करने की बात कही बल्कि उन्हें प्लेइंग 11 में भी मौका दिया गया.

क्या खत्म हो गया धवन का करियर?

धवन के पिछले लगभग दो साल के करियर को देखे तो उन्होंने टीम में लिए कई मौकों पर अहम पारी खेल कर मैच में जीत दिलवाई और वही कुछ मैचों कप्तान के तौर पर भी टीम को बेहतर प्रदर्शन करने में मदद दी. धवन 2022 में वनडे में भारत के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में दूसरे नंबर पर हैं. धवन ने इस साल 22 मैचों में 688 रन बनाए थे. उनसे आगे श्रेयस अय्यर हैं जिन्होंने 17 मैचों में 724 रन बनाए हैं.

धवन के विकल्प के तौर पर ईशान किशन और शुबमन गिल का नाम सबसे ऊपर नजर आ रहा है. हाल ही में गिल और ईशान के प्रदर्शन ने सभी को प्रभावित किया है. ईशान ने वनडे करियर का पहला दोहरा शतक भी जमाया है. ईशान तेज़ी से रन बना सकते है वही पर वो टीम नें धवन की तरह बाये हाथ से बल्लेबाज़ी करते है जो काफी असरदार रहता है.