‘पीएम मटेरियल’ पर बिहार में सियासी बवाल, जानिए क्या बोले CM नीतीश कुमार

पटना. देश में जातिगत जनगणना (Caste Census) के सवाल पर सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने एक बार फिर पीएम मोदी (PM Modi) के जवाब के इंतजार की बात कही है. दरभंगा व मधुबनी के बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा कर पटना लौटे सीएम ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) की तरफ से कोई जवाब नहीं आया है. इंतजार कर रहे है क्योंकि निर्णय उनको लेना है. उन्होंने सवालिया लहजे में मीडियाकर्मियों से पूछा ऐसे अभी जनगणना शुरू कहां हुई है? इसके साथ ही सीएम नीतीश ने उनको पीएम मैटेरियल ( PM material) कहकर प्रचारित किए जाने को लेकर भी अपनी बात रखी. उन्होंने पीएम मटेरियल के सवाल पर दो टूक जवाब देते हुए कहा कि यह सब फालतू बात है, पार्टी की मीटिंग का ये काम नहीं था. कोई पार्टी में कुछ बोलता है तो इसपर ध्यान नहीं देते.

 

बता दें कि 29 अगस्त को JDU की राष्ट्रीय परिषद की बैठक में नीतीश कुमार को PM मटेरियल बताया गया. साथ ही, प्रस्ताव पास किया गया कि नीतीश कुमार में PM बनने के सारे गुण हैं. वह प्रधानमंत्री बनने की योग्यता रखते हैं. बैठक के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह (Lalan Singh), जेडीयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने साफ कहा था कि सीएम नीतीश पीएम पद की योग्यता रखते हैं और पूरे देश में सीएम नीतीश के व्यक्तित्व के प्रचार-प्रसार के लिए मिशन नीतीश चलाया जाएगा.

 

सीनियर लीडर केसी त्यागी (KC Tyagi)  हालांकि यह कहा था कि फिलहाल हम एनडीए में हैं, और एनडीए में नरेंद्र मोदी के अलावा कोई पीएम पद का दावेदार नहीं है. हालांकि इस बीच नालंदा के सांसद कौशलेंद्र कुमार ने कहा था कि अगर सीएम नीतीश उनके संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ना चाहें तो वह सांसद पद से इस्तीफा देने को तैयार हैं. सीएम नीतीश कुमार को पीएम बनाने के लिए वह यह त्याग करने का दावा कर रहे हैं. हालांकि इन सबके बीच सीएम नीतीश ने ऐसी किसी संभावना को खारिज किया है

 

बहरहाल, सीएम नीतीश के ताजा बयान के बाद इन मुद्दों पर विराम लगने की संभावना है. इस बीच सीएम ने दरभंगा दौरे से लौटने के बाद बाढ़ के हालात पर कहा कि सब जगह देख लिए हैं. पूरी जानकारी भी ली है.मदद की जानकारी भी ली, भोजन, रखने का पूरा इंतजाम है. प्रभवित परिवार को 6 हजार रुपये भी दिए जा रहे हैं. कई जगहों पर पानी कमा है, लेकिन कई इलाके अब भी पानी में डूबे हुए हैं.  सीएम नीतीश ने यह भी कहा कि बाढ़ पीड़ितों की राहत के लिए क्या किया जा रहा है, इसका रोज आकलन किया जाता है. यह इलाका 6 महीना बाढ़ से प्रभावित रहता है. .इसके लिए सरकार ने योजना बनाई है.

 

वैशाली में अशोक स्तंभ के पानी में डूब जाने पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि वैशाली के लिए सबको कहा हुआ है. पूरे तौर पर जल संसाधन विभाग लगा हुआ है. कोरोना मैं लोगों के रोजगार खेलने के सवाल पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि कोरोना के कारण देश और राज्य की स्थिति सबको मालूम है. स्थिति को सभी लोग जान रहे हैं. काम अवरुद्ध हुआ है और नुकसान हुआ है. कई कठिनाइयां हुई हैं. कैसे लोगो को राहत मिले इसपर काम हो रहा है.  एक महीने और अलर्ट रहना है.

 

हेलो! Best Research के साथ Google News पर जुड़े,   लिंक

 

Source: News18

Leave a Comment

close