समस्तीपुर में किशोरी को किया अगवा, बेहोश कर बिना कपड़ों के फेंका, जीजा ने जताई रेप की आशंका

समस्तीपुर से एक विवाहित किशोरी (16 वर्ष) को अगवा कर सकरा थाना क्षेत्र के रामीरामपुर गांव स्थित आम के बगीचे में सोमवार रात फेंक दिया गया। नशीला पदार्थ देकर बेहोश करने के बाद किशोरी के साथ रेप की आशंका जतायी जा रही है। उसके शरीर पर कपड़े नहीं थे। मंगलवार सुबह शौच के लिए निकले लोगों ने किशोरी को देख गांववालों को इसकी सूचना दी। किशोरी का मायका व ससुराल दोनों समस्तीपुर में है। उसके जीजा ने अगवा कर दुष्कर्म की आशंका जतायी है।

 

बगीचे में बिना कपड़ों के अचेत स्थिति में मिली किशोरी के मिलने की सूचना पर भारी भीड़ जुट गई। गांव की महिलाओं ने उसे उठाकर एक बथान में लाया। वहां महिलाओं ने अपने घर से कपड़े लाकर उसे पहनाया। सूचना पर पहुंचे मुखिया अजय कुमार साह ने ऑटो मंगवाकर महिलाओं के साथ उसे सकरा रेफरल अस्पताल में भर्ती कराया। वहां उसकी हालत देख डॉक्टर ने प्राथमिक उपचार के बाद सदर अस्पताल रेफर कर दिया। फिलहाल पीड़िता एसकेएमसीएच में भर्ती है। अर्ध बेहोशी की हालत में उसने अपना नाम व पता बताया। अपने दीदी का पता भी बताया, जो सीमावर्ती पूसा थाना का निवासी है।

 

सकरा थानाध्यक्ष सरोज कुमार ने बताया कि रेप के बाद किशोरी को फेंके जाने की सूचना पुलिस को दी गई थी। बगीचे में किशोरी बिना कपड़े के बेहोश जमीन पर पड़ी थी। उसे ग्रामीणों ने अस्पताल पहुंचाया। वहां से महिला चौकीदार की निगरानी में उसे मेडिकल भेजा गया है। किशोरी को नशीला पदार्थ देकर बेहोश करने की आशंका है। किशोरी के साथ रेप हुआ है या नहीं यह मेडिकल रिपोर्ट मिलने के बाद स्पष्ट हो गया। किशोरी के परिजन दिल्ली में हैं। ससुराल समस्तीपुर के कर्पूरीग्राम के आसपास है। किशोरी के जीजा व बहन को बुलाया गया था, लेकिन दोनों आने में असमर्थता जता रहे थे। इसके बाद सकरा पुलिस ने अपनी गाड़ी भेकर उसके जीजा व बहन को बुलवाया और एसकेएमसीएच में पीड़िता के पास रहने को कहा है।

 

 

मायके वाले व ससुराल वाले नहीं ले रहे संज्ञात

सकरा रेफरल अस्पताल में अर्ध बेहोशी की हालत में स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिस की पूछताछ में अपना घर समस्तीपुर जिले के चकमेहसी थाना के एक गांव में बतायी। पुलिस ने चकमेहसी थाने की पुलिस से संपर्क कर उसके मायके वालों को खबर की। कुछ देर बाद उसने जीजा का पता बताया। इसके बाद पुलिस किशोरी के जीजा से फोन पर बात की और उसे बुलवाया।

 

सात माह पहले हुई थी किशोरी की शादी

पुलिस के समक्ष किशोरी के जीजा ने बताया कि किशोरी की शादी सात महीने पहले समस्तीपुर के कर्पूरीग्राम के पास एक गांव में हुई थी। वह अपने ससुराल में ही रह रही थी। उसने बताया कि किशोरी के पिता व अपने ससुर को घटना की सूचना दी, लेकिन उन्होंने छोड़ देने को कहा। इस लिए वह अस्पताल नहीं आ रहे थे। ससुराल वाले एक सप्ताह से गायब होने की बात कह रहे हैं, लेकिन अस्पताल नहीं आए। पुलिस के गाड़ी भेजने पर दोनों पति-पत्नी आए हैं। उसने आशंका जतायी है कि साली के साथ दुष्कर्म जैसी घटना हुई है।

 

महिला पुलिस कर्मी के इंतज़ार में दो घंटे तक पड़ी रही अस्पताल में

सकरा रेफरल अस्पताल में भर्ती पीड़िता को प्राथमिक उपचार के बाद ड्यूटी पर तैनात डॉक्टर ने करीब सात बजे सुबह में रेफर कर दिया। उसकी हालत गंभीर बताते हुए उसे जल्दी सदर अस्पताल ले जाने को कहा गया। उस समय तक पीड़िता की पहचान नहीं हो सकी थी और कोई परिजन के नहीं होने के कारण उसे किसी महिला पुलिस की निगरानी में अस्पताल से भेजा जाना था। इसको लेकर दो घंटे से अधिक समय तक पीड़िता बेड पर पड़ी रही। लेकिन किसी महिला सिपाही को नहीं भेजा गया। बाद में चौकीदार सुशीला देवी के आने पर उसे एंबुलेंस से सदर अस्पताल भेजा गया। सदर अस्पताल में उसे देखते एसकेएमसीएच ले जाने को कहा गया। इसके बाद से वह एसकेएमसीएच में इलाजरत है।

Leave a Comment

close