HomeEntertainmentअक्षरा सिंह और खेसारी यादव पर पवन सिंह का नया निशाना, दो...

अक्षरा सिंह और खेसारी यादव पर पवन सिंह का नया निशाना, दो दिनों में साढ़े सात लाख लोगों ने देखा वीडियो

भोजपुरी इंटरटनमेंट इंडस्‍ट्री के सुपर स्‍टारों के बीच गुटबाजी खत्‍म होने का नाम नहीं ले रही है। आरा के रहने वाले भोजपुरी स्‍टार पवन सिंह ने छपरा के खेसारी लाल यादव और पटना की अक्षरा सिंह पर अब नए अंदाज में निशाना साधा है। पिछले दिनों इन तीनों भोजपुरी कलाकारों ने अपने बयानों से पूरा माहौल गर्म कर दिया है। नए साल के आगाज से ठीक पहले पवन सिंह ने अपने अंदाज से जता दिया कि वे इन दोनों से सुलह के मूड में नहीं हैं। पवन सिंह और अक्षरा सिंह कभी बेहद करीबी हुआ करते थे। बाद में दोनों के रिश्‍ते बिगड़ गए। इसके बाद कई शर्मनाक चीजें सामने आईं।

अक्षरा के हालिए गाने का जवाब माना जा रहा ये सांग

पवन सिंह का नया गाना अक्षरा सिंह के एक हालिया गाना का जवाब माना जा रहा है। अक्षरा सिंह हाल में ही एक ऐसे गाने में नजर आई थीं, जिसके बोल – ‘बस ए ही खाता आरा जानी’ थे। इस गाने में बलिया, बक्‍सर, सासाराम और बनारस जैसे शहरों का जिक्र था। गाने के बोल थे- सुनले बानी आ‍ेहिजा निखरे जवानी, बस एही खातिर आरा जानी… जरे वाला जरत रहे, माथा प अपना तेल धरत रहे…।

 

पवन सिंह के नए गाने के बोल ने मचाया हंगामा

अब पवन सिंह का एक गाना सामने आया है, जिसमें आरा के साथ ही खेसारी लाल यादव के शहर छपरा का भी जिक्र किया है। इस गाने के बोल ‘एहि खातिर आरा अईले ‘ हैं। दो दिनों पहले यूट्यूब पर अपलोड इस गाने को अब तक करीब आठ लाख लोग देख चुके हैं। इस गाने में ‘छपरा में छुअइनी त कुछ ना भइल… बाकी बलिया से मन हमार खुश भइल… सगरी से बेसहारा भइले, त एही खातिर आरा अइले… तोहर मन नाही भर पाई अतना में, हम जानी तानी सब बाड़े कातना में, खाली घूम के गुजारा कइले…’ जैसे बोल हैं।

 

नए साल में भी तल्‍खी कम होने के आसार नहीं

इस गाने को पवन सिंह के प्रशंसक तो हाथोंहाथ ले रहे हैं, लेकिन खेसारी और अक्षरा सिंह के फैन में इसकी प्रतिक्रिया कड़ी है। जिस तरह की प्रतिक्रिया इस गाने के वीडियो पर मिल रही है, उससे लगता है कि इन तीन स्‍टार के बीच बयानबाजी और गानों के जरिए एक-दूसरे पर तंज कसने का दौर नए साल में भी जारी रहेगा। आपको बता दें कि पवन सिंह और खेसारी लाल यादव ने इंटरनेट मीडिया पर लाइव आकर एक-दूसरे के खिलाफ लगातार बयानबाजी की थी। अक्षरा सिंह ने भी बिना इन दोनों का नाम लिए बयान दिया था। काजल राघवानी ने इस प्रकरण के बाद भोजपुरी इंडस्‍ट्री में जातिवाद का आरोप लगाया था।

 

हेलो! Best Research के साथ Google News पर जुड़े,   लिंक

 

Source : Dainik Jagran

Nikhil Pratap
Nikhil Prataphttps://bestresearch.in/
Nikhil Pratap is Editor Head of Best Research. He is Administrative Director who leads the Technology team at bestresearch.in. He is also media advisor at bestresearch.in. Contact: nikhil@bestresearch.in
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments